AN-32 दुर्घटना: वायुसेना ने कहा- विमान में सवार सभी 13 लोगों की मौत

0
10

बीते तीन जून से लापता भारतीय वायुसेना का एएन-32 परिवहन विमान का मलबा आठ दिन बाद मंगलवार को अरुणाचल प्रदेश के सियांग जिले से बरामद किया गया था. वायुसेना के एक अधिकारी ने बताया कि एएन-32 विमान दुर्घटना में कोई भी जीवित नहीं बचा.

वायुसेना ने बृहस्पतिवार को कहा कि अरूणाचल प्रदेश में दुर्घटनाग्रस्त हुए एएन-32 विमान में सवार सभी 13 लोगों की मौत हो चुकी है. अरूणाचल प्रदेश के घने पर्वतीय क्षेत्र में बृहस्पतिवार को बचावकर्मियों की एक टीम द्वारा विमान का मलबा तलाश किए जाने के बाद वायुसेना ने यह जानकारी दी. वायुसेना के एक अधिकारी ने बताया कि एएन-32 विमान दुर्घटना में कोई भी जीवित नहीं बचा. प्रवक्ता ने कहा, ‘वायुसेना तीन जून 2019 को एएन-32 (विमान) के दुर्घटनाग्रस्त होने के दौरान अपनी जान गंवाने वाले वायुसेना के बहादुर जांबाजों को श्रद्धांजलि अर्पित करती है और वह मृतकों के परिजनों के साथ खड़ी है. उनकी (मृतकों की) आत्मा को शांति मिले.’

भारतीय वायु सेना ने कहा है कि एएन-32 विमान पर सवार सभी 13 सैन्यकर्मियों की मौत हो गई है. एयर फ़ोर्स के इस विमान ने तीन जून को असम के जोरहाट से उड़ान भरी थी लेकिन कुछ ही देर बाद संपर्क टूट गया था.

तीन जून से ही भारतीय वायु सेना इसकी खोज में लगी थी और आठ दिन बाद 11 जून को इसका मलबा अरुणाचल प्रदेश के सियांग ज़िले में मिला था. 11 जून को मलबा मिलने के बाद भारतीय वायु सेना ने कहा था कि 13 सवार लोगों के बारे में अभी कोई जानकारी नहीं मिली है लेकिन गुरुवार को भारतीय वायु सेना ने सभी की मौत की पुष्टि कर दी है.

भारतीय वायु सेना ने अपने बयान में कहा है, ”हमें यह सूचित करते हुए काफ़ी दुख हो रहा है कि एएन-32 में सवार 13 लोगों में से कोई नहीं बचा है. हम सभी बहादुर सैन्यकर्मियों को श्रद्धांजलि देते हैं.”

भारतीय वायु सेना ने मारे गए सभी सैन्यकर्मियों के नाम भी बताए हैं. ये हैं- विंग कमांडर जीएम चार्ल्स, स्क्वॉडर्न लीडर एच विनोद, फ्लाइट लेफ्टिनेंट आर. थापा, आशीष तंवर, एस. मोहंती, मोहित के. गर्ग, वॉरंट ऑफिसर के.के. मिश्रा, सार्जेन्ट अनूप कुमार, कोर्पोरेल शेरिन, एयर क्राफ़्टमैन एस.के. सिंह और पंकज के अलावा दो अन्य सैन्यकर्मी पुताली और राजेश कुमार थे.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here