विपक्ष के विरोधी नारे को न सिर्फ अपने पक्ष में बल्कि उसे कैंपेन में बदल देने वाले पीएम मोदी ने एक बार फिर राहुल गांधी के नारा को भुना लिया है. ऐसा नहीं कि पीएम मोदी ने पहली बार किया हो. इसके पहले भी वह मौके पर चौका मार चुके हैं.

नई दिल्लीः किसी भी परिस्थिती और मुद्दों को भुनाने में माहिर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कांग्रेस के चौकीदार वाले नारे को अपने पक्ष में भुनाने के लिए अभियान चला दिया है. ट्विटर और इंस्टाग्राम पर करीब चार मिनट का एक वीडियो पोस्ट किया है. इस वीडियो के साथ उन्होंने लिखा है कि भारत के विकास के लिए कड़ी मेहनत करने वाला हर व्यक्ति चौकीदार है.

दरअसल, राहुल गांधी राफेल डील में गड़बड़ी का आरोप लगाते हुए चौकीदार चोर है के नारे लगवाते रहे हैं. अब प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने ट्वीट कर देश के हर नागरिक को चौकीदार कहा है.

”चौकीदार चोर बाले बयान को बनाया कैंपेन” 

प्रधानमंत्री मोदी ने ट्वीट किया, ”आपका चौकीदार मजबूती से खड़ा है और देश की सेवा कर रहा है, लेकिन मैं अकेला नहीं हूं. भ्रष्टाचार, गंदगी, सामाजिक बुराई के खिलाफ लड़ने वाला हर व्यक्ति चौकीदार है. भारत के विकास के लिए कड़ी मेहनत करने वाला हर व्यक्ति चौकीदार है. आज हर भारतीय कह रहा है मैं भी चौकीदार.”

उन्होंने अपना संदेश लोगों तक पहुंचाने के लिए तीन मिनट से अधिक समय का वीडियो भी पोस्ट किया है. मोदी अकसर स्वयं को ऐसा ‘चौकीदार’ बताते आए हैं जो भ्रष्टाचार को अनुमति नहीं देगा और न ही स्वयं भ्रष्टाचार करेगा.

ऐसा नहीं कि पहली बार पीएम मोदी ने अपने विरोध में दिए गए बयान को पक्ष में भुनाया है. इससे पहले साल 2014 लोकसभा चुनाव के दौरान पीएम मोदी ने मणिशंकर अय्यर के ‘चायवाला’ बयान को जमकर भुनाया था और देश भर में एक अभियान चला दिया था.

‘चायवाला’ बयान पर बटोरी थी सहानुभूति

चुनावी रैलियों के दौरान पीएम मोदी लोगों को संबोधित करते हुए हमेशा कहते थे, ”क्या देश का प्रधानमंत्री चाय बेचने वाला नहीं बन सकता है.” चायवाला अभियान को लेकर देश भर में मोदी को जबरदस्त सहानुभूति बटोरी थी.

इस सहानुभूति का ही नतीजा था कि बीजेपी ने चाय पर चर्चा कार्यक्रम लॉन्च किया था. नरेंद्र मोदी को लेकर लोगों के बीच ‘गरीब के बेटे’ की छवि बनी जिसको भुनाने में मोदी ने कोई कोर कसर नहीं छोड़ी. इसके अलावा नरेंद्र मोदी ने अपने परिवार की गरीबी का भी हवाला दिया था.

‘मोदी है तो मुमकिन है’

लोकसभा चुनाव के एलान से पहले भारतीय जनता पार्टी ने एक नारा गढ़ा. इस नारा में पीएम मोदी को विकास पुरुष बताया गया और कहा गया कि मोदी सरकार के कारण ही देश विकास की राह पर अग्रसर है. नारा था- ”मोदी है तो मुमकिन है”.

अगले ही दिन कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने नीरव मोदी, मेहुल चोकसी और विजय माल्या के फोटो के साथ इस नारा को लिखा और सोशल मीडिया पर ट्रेंड करवाने लगा. जिसके बाद बीजेपी बैकफुट पर दिखाई देने लगी. सोशल मीडिया पर ट्रेंड होने के ठीक एक दिन बार पाकिस्तान में एयर स्ट्राइक की खबर आई.

एयर स्ट्राइक की खबर मिलते ही बीजेपी के कार्यकर्ता और मोदी समर्थकों ने ‘मोदी है तो मुमकिन है’ नारे को ट्रेंड करवा दिया. एक बार फिर बैकफुट पर जा रही मोदी सरकार और उसके कार्यकर्ता को ऊर्जा मिली और विपक्षियों पर हमलावर हो गई. कार्यकर्ताओं ने सोशल मीडिया पर एक बार फिर से इस नारा को मोदी के पक्ष में ट्रेंड करवा दिया.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here