160 किलोमीटर की रफ़्तार से गुजरात पर मंडराता चक्रवाती तूफ़ान ‘वायु’ का ख़तरा

0
6

भारतीय मौसम विभाग ने गुजरात में एक तगड़े चक्रवाती तूफ़ान ‘वायु’ की चेतावनी दी है.

समाचार एजेंसी पीटीआई के अनुसार, गुजरात के कच्छ और सौराष्ट्र के इलाक़े में गुरुवार को तूफ़ान और भारी बारिश की आशंका है. तूफ़ान से पहले बुधवार को गुजरात में वलसाड समेत कुछ हिस्सों में बारिश भी हुई है. यह चक्रवाती तूफ़ान अरब सागर से उठकर उत्तर की ओर बढ़ रहा है. तट पर टकराते समय हवा की रफ़्तार 160 किलोमीटर प्रति घंटा होने का अनुमान है. मौसम विभाग ने तूफ़ान को गंभीर श्रेणी में रखा है. ग़ौरतलब है कि पिछले महीने ओडिशा के तट से टकराए फणी तूफ़ान की रफ़्तार 220 किमी प्रति घंटा थी, जिससे हुए नुक़सान को ठीक करने में हफ़्तों जूझना पड़ा था. ‘वायु’ की तीव्रता को देखते हुए बुधवार दोपहर बाद से ही द्वारका, सोमनाथ, सासन, कछ के इलाक़े में लोगों को सुरक्षित स्थानों में जाने को कहा गया है. मुख्यमंत्री विजय रुपानी ने टूरिस्टों से अपील की है कि अगर वो वापस लौट सकें तो लौट जाएं या सुरक्षित स्थानों पर चले जाएं.

विजय रूपाणीइमेज कॉपीरइटTWITTER/@VIJAYRUPANIBJP

इस तूफ़ान का असर मुंबई के तटों पर भी होने की आशंका है और मछुआरों को चेतावनी जारी कर दी गई है. भारतीय मौसम विभाग के डिप्टी डायरेक्टर जनरल केएस होसालिकर के अनुसार, मुंबई में हवा की रफ़्तार 50-60 किलोमीटर प्रतिघंटे हो सकती है, लेकिन कोई गंभीर बात नहीं है.

पश्चिमी विक्षोभ (वेस्टर्न डिस्टर्बेंस) के कारण मुंबई में सोमवार को भारी बारिश हुई है. तूफ़ान के तट से टकराने से पहले मुंबई में तेज़ हवाएं चलनी शुरू हो गई हैं. हालांकि तूफ़ान ‘वायु’ का सर्वाधिक असर गुजरात के तटीय इलाक़ों में पड़ने की आशंका है क्योंकि यहां हवा की रफ़्तार 140-150 किलोमीटर प्रति घंटा हो सकती है. जबकि 13 जून की सुबह हवा की रफ़्तार 160 किलोमीटर प्रति घंटे तक होने की आशंका है.

मौसम विभाग के अनुसार, बुधवार की सुबह तक वायु गोवा तट से 450 किलोमीटर, मुंबई से 290 किलोमीटर और गुजरात के वेरावल से 340 किलोमीटर दूर था. विभाग ने ट्वीट किया कि यह तूफ़ान गुरुवार की सुबह वेरावल और दीव पहुंचेगा.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here