कटिहार लोकसभा की बलरामपुर विधानसभा में जनसभा को संबोधित करते हुए नवजोत सिंह सिद्धू ने कहा कि आप की ऐसी लोकसभा है जहां अल्पसंख्यक भी बहुसंख्यक है, इसलिए आप अगर एकजुटता दिखाएंगे तो तारिक अनवर को कोई नहीं हरा सकता है.

कांग्रेस नेता और पंजाब सरकार में मंत्री नवजोत सिंह सिद्धू का कटिहार में दिया बयान उन पर भारी पड़ सकता है. जिस तरह के बयान के आधार पर चुनाव आयोग ने मायावती पर 48 घंटे चुनाव प्रचार करने पर प्रतिबंध लगाया है उसी तरह का बयान सिद्धू ने कटिहार से चुनाव लड़ रहे तारिक अनवर के पक्ष में प्रचार करते हुए दिया था.

नेताओं के भाषण पर चुनाव आयोग की सख्ती लगातार बढ़ती जा रही है तो नेताओं की बदजुबानी भी रुकने का नाम नहीं ले रही है. कटिहार संसदीय क्षेत्र के बलरामपुर विधानसभा हलके में एक सभा को संबोधित करते हुए नवजोत सिंह सिदधू ने मुस्लिम मतदाताओं से कहा आप अल्पसंख्यक होकर भी यहां बहुसंख्यक हो. नवजोत सिंह सिद्दू ने कहा अपने संबोधन में ये भी कहा कि आप अगर एकजुटता दिखाएंगे तो उम्मीदवार तारिक अनवर को कोई नहीं हरा सकता. बीजेपी ने तय किया है कि इस बयान को लेकर सिद्धू की चुनाव आयोग से शिकायकत की जाएगी.

अब कांग्रेस के स्टार प्रचारक नवजोत सिंह सिद्धू का एक बयान सामने आया है, जिसमें वह मुस्लिम समुदाय से एकजुट होकर कांग्रेस पार्टी के लिए मतदान करने की अपील कर रहे हैं. सिद्धू ने ये बयान बिहार के कटिहार में दिया है.

कटिहार लोकसभा की बलरामपुर विधानसभा में जनसभा को संबोधित करते हुए नवजोत सिंह सिद्धू ने कहा कि आप की ऐसी लोकसभा है जहां अल्पसंख्यक भी बहुसंख्यक है, इसलिए आप अगर एकजुटता दिखाएंगे तो तारिक अनवर को कोई नहीं हरा सकता है.

रैली में नवजोत सिंह सिद्धू बोले, ‘’यहां जातपात में बांटने की राजनीति हो रही है, मैं अपने मुस्लिम भाइयों को एक ही बात कहने आया हूं, आपका ऐसा क्षेत्र है जहां आप अल्पसंख्यक बनकर नहीं बल्कि बहुसंख्यक बनकर हो. इस क्षेत्र में आपका वर्चस्व 62 फीसदी का है और ये बीजेपी वाले षडयंत्रकारी लोग आपको बांटने का प्रयास करेंगे, आप इकठ्ठे रहें तो कांग्रेस को दुनिया की कोई ताकत हरा नहीं सकेगी.’’

इसके अलावा भी नवजोत सिंह सिद्धू ने इस रैली में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और भारतीय जनता पार्टी को निशाने पर लिया और पीएम मोदी की तुलना फेंकू से की.इससे पहले बसपा अध्यक्ष मायावती ने भी ऐसा ही बयान दिया था, जिसे आचार संहिता का उल्लंघन मानते हुए चुनाव आयोग ने 48 घंटे के लिए मायावती के प्रचार पर पाबंदी लगाई है.

मायावती ने भी दिया था ऐसा ही बयान

बहुजन समाज पार्टी की प्रमुख मायावती के चुनाव प्रचार करने पर 48 घंटे के लिए रोक लगाई थी. मायावती ने देवबंद की रैली में मुस्लिम समुदाय के लोगों से एकजुट होकर महागठबंधन के लिए मतदान करें.

आचार संहिता के नियमों के तहत कोई भी नेता, प्रत्याशी या पार्टी धर्म के आधार पर वोट नहीं मांग सकती है ना ही किसी एक समुदाय से इस प्रकार एकजुट मतदान की अपील कर सकती है.

मायावती के अलावा चुनाव आयोग ने यूपी सीएम योगी आदित्यनाथ के अली-बजरंगबली वाले बयान पर भी सख्ती दिखाई थी. आयोग ने योगी के प्रचार करने पर 72 घंटे के लिए रोक लगाई थी.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here