द.अफ्रीका को 6 विकेट से हराकर भारत ने जीता अपना पहला मैच, रोहित का 23वां वनडे शतक

0
16

वर्ल्ड कप में भारत ने अपने अभियान की शुरुआत जीत के साथ की। उसने बुधवार को साउथैम्पटन के रोज बाउल स्टेडियम में खेले गए मैच में दक्षिण अफ्रीका को 6 विकेट से हराया। दक्षिण अफ्रीका ने टॉस जीता और बल्लेबाजी का फैसला किया। उसने 50 ओवर में 9 विकेट पर 227 रन बनाए। टीम इंडिया ने 47.3 ओवर में 4 विकेट पर 230 रन बनाकर मैच जीत लिया। भारत ने वर्ल्ड कप में छठी बार अपना ओपनिंग मैच जीता है। उसका अगला मुकाबला 9 जून को ऑस्ट्रेलिया से होगा।

रोहित मैच के हाइएस्ट स्कोरर

रोहित शर्मा ने भारत की और से और मैच में सबसे ज्यादा रन बनाए। वे 122 रन बनाकर नाबाद रहे और मैन ऑफ द मैच चुने गए। उन्होंने 10 चौके और 2 छक्के की मदद से 128 गेंद पर अपना शतक पूरा किया। उनका यह 23वां वनडे इंटरनेशनल शतक है।

गांगुली से आगे निकले रोहित

रोहित वनडे में सबसे ज्यादा शतक लगाने वाले भारतीयों में तीसरे नंबर पर पहुंच गए हैं। उनका वर्ल्ड कप में यह दूसरा शतक है। उन्होंने पहला शतक 2015 में बांग्लादेश के खिलाफ लगाया था। तब उन्होंने 137 रन की पारी खेली थी। सौरव गांगुली 22 शतक के साथ चौथे नंबर पर खिसक गए।

जीत हासिल कर ऑस्ट्रेलिया के बराबर पहुंचा भारत

रोहित ने वर्ल्ड कप में भारत की ओर से 26वां शतक लगाया। यह वर्ल्ड कप का कुल 168वां शतक है। भारत टूर्नामेंट में सबसे ज्यादा शतक लगाने के मामले में संयुक्त रूप से पहले स्थान पर पहुंच गया। उसने ऑस्ट्रेलिया के 26 शतक की बराबरी की।

रोहित ने सचिन को पीछे छोड़ा

रोहित ने लक्ष्य का पीछा करते हुए सबसे ज्यादा नाबाद शतक बनाने के मामले में सचिन तेंदुलकर को पीछे छोड़ दिया। उनका इस मामले में यह नौवां नाबाद शतक है। सचिन के नाम लक्ष्य का पीछा करते हुए 8 नाबाद शतक हैं। इस मामले में 11 नाबाद शतकों के साथ विराट कोहली दुनिया में टॉप पर हैं।

बतौर कप्तान विराट की 50वीं जीत

कोहली ने बतौर कप्तान अपनी 50वीं जीत हासिल की। उन्होंने अब तक 69 वनडे में कप्तानी की है। उसमें यह 50वीं जीत है। वे सबसे कम वनडे में 50 जीत हासिल करने के मामले में वेस्टइंडीज के विवियन रिचर्ड्स को पीछे छोड़कर तीसरे नंबर पर पहुंच गए। रिचर्ड्स ने 70 वनडे में 50वीं जीत हासिल की थी। दक्षिण अफ्रीका के हैंसी क्रोनिए 68 और वेस्टइंडीज के क्लाइव लॉयड और ऑस्ट्रेलिया के रिकी पोंटिंग ने 63 वनडे में 50वीं जीत हासिल की थी।

रोहित ने की राहुल और धोनी के साथ अर्धशतकीय साझेदारी

भारत की शुरुआत अच्छी नहीं रही। शिखर धवन के रूप में उसका पहला विकेट छठे ओवर की पहली गेंद पर गिर गया। धवन के बाद रोहित और विराट ने दूसरे विकेट के लिए 41 रन जोड़े। फेहलुकवायो ने दोनों की साझेदारी तोड़ी। फिर रोहित ने लोकेश राहुल के साथ मिलकर तीसरे विकेट के लिए 85 रन जोड़े। रोहित-राहुल की साझेदारी को रबाडा ने तोड़ा। रोहित ने राहुल की जगह आए महेंद्र सिंह धोनी के साथ चौथे विकेट के लिए 74 रन जोड़े। धोनी जब आउट हुए तब टीम को जीत के लिए 15 रन और चाहिए थे।

दक्षिण अफ्रीका के क्रिस मॉरिस टॉप स्कोरर

इस मैच में दोनों टीमें 2-2 स्पिनर्स के साथ उतरीं। दक्षिण अफ्रीका के लिए 8वें नंबर पर बल्लेबाजी करने आए मॉरिस ने सबसे ज्यादा 42 रन बनाए। उनके अलावा क्विंटन डीकॉक ने 10, फाफ डुप्लेसिस ने 38, रसी वान डर डुसेन ने 22, डेविड मिलर ने 31, एंडिले फेहलुकवायो ने 34 और कगिसो रबाडा ने 31 रन बनाए।

शुरुआती 10 ओवर में दक्षिण अफ्रीका ने बनाए सिर्फ 34 रन

भारत की ओर से युजवेंद्र चहल सफल गेंदबाज रहे। उन्होंने 51 रन देकर 4 विकेट लिए। वे वर्ल्ड कप के किसी मैच में 4 या उससे ज्यादा विकेट लेने वाले भारत के 17वें गेंदबाज हैं। जवागल श्रीनाथ, युवराज सिंह, आशीष नेहरा और उमेश यादव वर्ल्ड कप के किसी मैच में 2-2 बार 4 या उससे ज्यादा विकेट ले चुके हैं।

बुमराह-भुवनेश्वर ने लिए 2-2 विकेट

चहल के अलावा भुवनेश्वर कुमार ने और जसप्रीत बुमराह ने 2-2 विकेट लिए। कुलदीप यादव 46 रन देकर 1 विकेट लेने में सफल रहे। इस मैच में दक्षिण अफ्रीका की शुरुआत खराब हुई। उसने ने पावर प्ले (शुरुआती 10 ओवर) में ही अपने दोनों ओपनर्स हाशिम अमला और क्विंटन डिकॉक के विकेट गंवा दिए थे। तब उसके 34 रन ही थे। दोनों को जसप्रीत बुमराह ने पवेलियन भेजा था।

दोनों टीमें

भारत विराट कोहली (कप्तान), रोहित शर्मा, शिखर धवन, लोकेश राहुल, महेंद्र सिंह धोनी, केदार जाधव, हार्दिक पंड्या, भुवनेश्वर कुमार, कुलदीप यादव, युजवेंद्र चहल, जसप्रीत बुमराह।

दक्षिण अफ्रीका फाफ डुप्लेसिस (कप्तान), क्विंटन डीकॉक, हाशिम अमला, रसी वान डर डुसेन, डेविड मिलर, जेपी डुमिनी, एंडिले फेहलुकवायो, क्रिस मॉरिस, कगिसो रबाडा, इमरान ताहिर, तबरेज शम्सी।

दक्षिण अफ्रीका को पटखनी देने के बाद बोले विराट कोहली, जीत से शुरुआत करना महत्वपूर्ण

भारतीय कप्तान विराट कोहली के लिये यह राहत की बात है कि टीम दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ चुनौतीपूर्ण मैच में जीत से शुरुआत करने में सफल रही जो कि उसके लिये ‘महत्वपूर्ण’ है.

दक्षिण अफ्रीका को पटखनी देने के बाद बोले विराट कोहली, जीत से शुरुआत करना महत्वपूर्ण

साउथम्पटन: भारतीय कप्तान विराट कोहली के लिये यह राहत की बात है कि टीम दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ चुनौतीपूर्ण मैच में जीत से शुरुआत करने में सफल रही जो कि उसके लिये ‘महत्वपूर्ण’ है. दक्षिण अफ्रीका ने पहले बल्लेबाजी करते हुए नौ विकेट पर 227 रन बनाये. भारत ने रोहित शर्मा के नाबाद 122 रन की मदद से चार विकेट खोकर लक्ष्य हासिल किया.

कोहली ने मैच के बाद कहा कि हमें पहले मैच के लिये लंबा इंतजार करना पड़ा ओर इसके बाद इस तरह का मैच खेला. मैच पूरे समय चुनौतीपूर्ण बना रहा. हमारे लिये जीत से शुरुआत करना महत्वपूर्ण था. अगर आप मैच पर गौर करो तो यह चुनौतीपूर्ण था. रोहित के आगे नतमस्तक हूं. यह पेशेवर जीत है. उन्होंने कहा कि अगर हम टास जीतते तो पहले गेंदबाजी ही करते. परिस्थितियां तब गेंदबाजों के अनुकूल थी और वे दो हार के बाद इस मैच में उतरे थे. जसप्रीत बुमराह हमेशा अलग स्तर की गेंदबाजी करता है. बल्लेबाज हमेशा उसके सामने दबाव महसूस करते हैं. चहल ने बेजोड़ गेंदबाजी की. कोहली ने कहा कि बुमराह ने जिस तरह से अमला को आउट किया वह लाजवाब था. मैंने अमला को इस तरह से स्लिप में कैच देकर आउट होते हुए नहीं देखा. क्विंटन डिकाक का विकेट भी शानदार था. रोहित की पारी विशेष थी. शीर्ष तीन बल्लेबाजों में से किसी का एक का शतक लगाना हमारे लिये जरूरी है.

डुप्लेसिस ने की भारतीय गेंदबाजों की तारीफ
दक्षिण अफ्रीका के कप्तान फाफ डुप्लेसिस ने भारतीय गेंदबाजों की तारीफ की. डुप्लेसिस ने कहा कि उनकी गेंदबाजी बेहतरीन रही. उनके पास अच्छे तेज गेंदबाज और अच्छे स्पिनर हैं. हमने शुरुआती झटकों के बाद अच्छी वापसी की लेकिन उनके स्पिनरों ने हमारा मध्यक्रम झकझोर दिया. हमारे किसी बल्लेबाज को लंबी पारी खेलनी चाहिए थी. अधिक बल्लेबाजों की 30 या 40 रन की पारियां स्वीकार्य नहीं हैं. उन्होंने रोहित शर्मा की पारी के बारे में कहा कि रोहित का भाग्य ने साथ दिया कि लेकिन बाद उसने शतक जमाया और अपनी टीम को जीत दिलायी.

रोहित बने मैन आफ द मैच
रोहित को उनकी नाबाद शतकीय पारी के लिये मैन आफ द मैच चुना गया. उन्होंने कहा कि पिच से गेंदबाजों को मदद मिल रही थी और इसलिए उन्होंने संभलकर बल्लेबाजी की. रोहित ने कहा कि पूरे मैच में गेंदबाजों को पिच से कुछ मदद मिलती रही. मैंने अपने शॉट खेलने में समय लिया और मैं जिन शॉट को खेलना पसंद करता हूं उन्हें नहीं खेला. यह रोहित शर्मा की आम पारियों जैसी नहीं थी लेकिन मैं आखिर तक टिके रहकर टीम को लक्ष्य तक पहुंचाना चाहता था. उन्होंने कहा कि इस टीम में सभी बल्लेबाजों की अपनी भूमिका है. हम एक या दो खिलाड़ियों पर निर्भर नहीं रह सकते. यह इस टीम की विशेषता है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here