राहुल के हस्तक्षेप से तंग आकर छोड़ी पार्टी, कांग्रेस नेता गुंडु राव ने किया पलटवार-SM कृष्णा

0
11

नई दिल्ली। कर्नाटक के पूर्व मुख्यमंत्री और यूपीए सरकार में विदेश मंत्री रहे एस एम कृष्णा के राहुल गांधी पर कई चौका देने वाले खुलासों के बाद कांग्रेसी नेता दिनेश गुंडू राव ने पलटवार किया है। राव ने कहा कि राहुल गांधी पर एसएम कृष्णा का बयान सुनने के बाद कृष्णा के लिए जो एक फीसद सम्मान था वो भी खत्म हो गया। राजनीति में इस कद के आदमी का ऐसी बात कहना बिल्कुल बकवास है। मुझे नहीं पता किस कारण से वह ऐसी बातें कह रहे हैं।

गौरतलब है कि कर्नाटक के पूर्व मुख्यमंत्री एसएम कृष्णा ने शनिवार को राहुल गांधी पर कई आरोप लगाए थे। उन्होंने कहा था कि लगातार हस्तक्षेप के कारण उन्हें विदेश मंत्री का पद और कांग्रेस पार्टी से इस्तीफा देना पड़ा था। कृष्णा ने कहा ‘राहुल गांधी के लगातार हस्तक्षेप के कारण में इस पद पर काम नहीं कर पा रहा था, दस साल पहले राहुल एक सांसद थे और उन्होंने पार्टी का कोई पद नहीं संभाला, लेकिन सभी मामलों में हस्तक्षेप करने लगे थे। उस वक्त मनमोहन सिंह प्रधानमंत्री थे, मगर कई फैसले उनकी जानकारी के बगैर लिए जाते थे।  इसके बाद 2 जी स्पेक्ट्रम, कॉमनवेल्थ और कोयला घोटाले सामने आए थे। वहीं गठबंधन दलों पर कांग्रेस का कोई नियंत्रण नहीं था।

गौरतलब है कि कर्नाटक के पूर्व मुख्यमंत्री एसएम कृष्णा ने शनिवार को राहुल गांधी पर कई आरोप लगाए थे। उन्होंने कहा था कि लगातार हस्तक्षेप के कारण उन्हें विदेश मंत्री का पद और कांग्रेस पार्टी से इस्तीफा देना पड़ा था। कृष्णा ने कहा ‘राहुल गांधी के लगातार हस्तक्षेप के कारण में इस पद पर काम नहीं कर पा रहा था, दस साल पहले राहुल एक सांसद थे और उन्होंने पार्टी का कोई पद नहीं संभाला, लेकिन सभी मामलों में हस्तक्षेप करने लगे थे। उस वक्त मनमोहन सिंह प्रधानमंत्री थे, मगर कई फैसले उनकी जानकारी के बगैर लिए जाते थे।  इसके बाद 2 जी स्पेक्ट्रम, कॉमनवेल्थ और कोयला घोटाले सामने आए थे। वहीं गठबंधन दलों पर कांग्रेस का कोई नियंत्रण नहीं था।

इसके साथ ही उन्होंने कहा कि राहुल, मनमोहन से अधिक शक्तिशाली थे और इससे देश में भ्रष्टाचार ग्राफ बढ़ा और राहुल गांधी ने ही फैसला किया था कि पार्टी को 80 साल से ऊपर के लोगों की जरूरत नहीं है। वहीं एसएम कृष्णा ने कहा कि साल 2009 से 2014 तक मैं यूपीए सरकार में सत्ता में था, तब मैं सभी अच्छी और बुरी चीजों के लिए समान रूप से जिम्मेदार था।

 इसके बाद एसएम कृष्णा ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की सरदार वल्लभभाई पटेल से तुलना करते हुए कहा कि अब देश को एकजुट रखने के लिए पीएम मोदी के नेतृत्व की जरूरत है। अब देश को विकास की पटरी पर लाने और भ्रष्टाचार मुक्त और पारदर्शी शासन देने के लिए जनता प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जैसा ही देश के लिए प्रधानमंत्री चाहती है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here