इंदिरा गांधी की हत्या की वजह से इस चुनाव में कांग्रेस को भारी सहानुभूति मिली थी. इसकी वजह से कांग्रेस पार्टी के 404 सांसद लोकसभा पहुंचे थे.

लोकसभा चुनाव 2019 के रुझान आ चुके हैं और एक बार फिर नरेंद्र मोदी ऐतिहासिक बहुमत के साथ सरकार बनाते नजर आ रहे हैं. लेकिन BJP के इतिहास की बात करें तो एक वक्त ऐसा था जब पार्टी को सिर्फ 2 सीटें मिली थीं और कांग्रेस उस चुनाव में 400 से अधिक सीटें हासिल करने में कामयाब रही थी.

तत्कालीन प्रधानमंत्री रहीं इंदिरा गांधी की हत्या के बाद 1984 में आम चुनाव हुए थे. हालांकि, असम और पंजाब में 1985 तक चुनाव टालने पड़े थे. इंदिरा गांधी की हत्या की वजह से इस चुनाव में कांग्रेस को भारी सहानुभूति मिली थी. इसकी वजह से 514 सीटों पर हुए चुनाव में कांग्रेस पार्टी के 404 सांसद जीते थे.

1984 के आम चुनाव में टीडीपी को 30 सीटें मिली थीं और वह दूसरी सबसे बड़ी पार्टी बन गई थी. यह पहली बार था जब एक क्षेत्रीय पार्टी प्रमुख विपक्ष के रूप में उभरी थीं. चुनाव के बाद राजीव गांधी प्रधानमंत्री बने थे.

इस चुनाव में कुल मतदाताओं का 49.10 फीसदी वोट कांग्रेस को मिले थे. वहीं, बीजेपी को सिर्फ 2 सीटें मिली थीं, लेकिन बीजेपी का वोट शेयर 7.74 रहा था. इसके बाद के सालों में बीजेपी के वोट शेयर काफी बढ़ते रहे.

1984 के बाद 1989 के आम चुनाव में कांग्रेस को जहां 39.53 फीसदी वोट मिले थे, वहीं बीजेपी का वोट बढ़कर 11.36 फीसदी हो गया था. इसके बाद बीजेपी को 1991 में 20.11 फीसदी, 1996 में 20.29 फीसदी, 1998 में 25.59 फीसदी, 1999 में 23.75 फीसदी, 2004 में 22.16 फीसदी, 2009 में 18.80 फीसदी और 2014 में 31.34 फीसदी वोट मिले थे. वहीं, बीजेपी की सीटों की संख्या 1989 में 85, 1991 में 120, 1996 में 161, 1998 में 182, 2004 में 138, 2009 में 116 और 2014 में 282 पर पहुंच गई थी.

क्या हैं लोकसभा चुनाव 2019 के रिजल्ट

2019 के लोकसभा चुनाव की मतगणना आज हो रही है. रुझानों के मुताबिक, बीजेपी भारी बहुमत से जीतती नजर आ रही है. एनडीए की सीटों का आंकड़ा 300 को पार करता हुआ दिखाई दे रहा है. वोट शेयर में भी बीजेपी काफी आगे बढ़ती हुई नजर आ रही है. यूपी, बिहार से लेकर पश्चिम बंगाल तक में बीजेपी बेहतर प्रदर्शन कर रही है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here