अंतरराष्ट्रीय फैशन डिजाइनर कार्ल की मौत से अरबपति हुई बिल्ली

0
9

नई दिल्ली। अंतरराष्ट्रीय फैशन डिजाइनर कार्ल लजेरफेल्ड का पेरिस में 85 वर्ष की उम्र में दो दिन पहले निधन हो गया है। बताया जा रहा है कि वह करीब दो सप्ताह से बीमार थे। उन्हें इलाज के लिए पेरिस के अस्पताल में भर्ती कराया गया है। एक तरफ उनकी मौत के बाद हॉलिवुड से लेकर अंतरराष्ट्रीय फैशन जगत में शोक की लहर है, वहीं उनकी मौत के बाद उनकी पालतू बिल्ली चौपेट, दुनिया के सबसे अमीर जानवरों में शुमार हो गई है।

कार्ल की मौत के बाद उनकी बिल्ली 150 मिलियन पाउंड (लगभग 1395 करोड़ रुपये) की मालकिन बन गई है। कार्ल की ये बिल्ली पहले से ही फैशन जगत की सबसे नामी बिल्ली थी। अपने हठी मिजाज और विवादित बयानों को लेकर सुर्खियों में रहने वाले कार्ल को अपनी बिल्ली से इतना प्रेम था कि उन्होंने एक बार उससे शादी करने की इच्छा भी व्यक्त की थी। उनकी ये बिल्ली सोशल मीडिया प्लेटफार्म पर स्टेटस अपडेट करती है। ट्विटर पर उसके 27000, फेसबुक पर 1276 और इंस्टाग्राम पर 120000 फॉलोअर्स हैं।

इतना ही नहीं कार्ल ने अपनी बिल्ली के लिए अलग से लंबा-चौड़ा स्टाफ रखा हुआ था। ये स्टाफ न केवल बिल्ली के हर आदेश का पालन करता है, बल्कि उसकी पसंद और नापसंद का भी पूरा ख्याल रखता है। कार्ल कई मौकों पर अपनी बिल्ली को मॉडल की तरह पेश कर चुके थे। वह अक्सर अपनी बिल्ली को मॉडल की तरह सजाकर रखते थे। फोटो के जरिए आप दुनिया की इस सबसे अमीर बिल्ली के नाजो-नखरे देख सकते हैं।

राजकुमारी से कम नहीं हैं ठाठ
कार्ल की इस बिल्ली के ठाठ किसी राजकुमारी से कम नहीं हैं। ये बिल्ली अपनी खुद की टेबल पर डिनर करती है। उसके पास अपना अलग आईपैड है, जिससे उसकी तस्वीरें खींची जाती हैं। कार्ल अपनी बिल्ली के इस कदर दिवाने थे कि उन्होंने उसकी आंखों से प्रेरित होकर अपने एक कलेक्शन के डिजाइन तैयार किये थे। कार्ल जब घर से बाहर अपनी बिल्ली से दूर होते थे, तो दौ नौकरानियां बिल्ली की हर गतिविधि को डायरी में नोट करती थी। कार्ल वापस आकर उस डायरी को पढ़ते थे।

कई सुपर मॉडल संग खिचाई है फोटो
उसके नाम से एक किताब भी है, जिसका नाम है ‘चौपेटः द प्राइवेट लाइफ ऑफ ए हाई-फ्लाइंग फैशन कैट’। इस किताब में शामिल एक फोटो में चौपेट को सुपर मॉडल लिंडा इवांगालिस्ता की बाहों में फोटो खिंचाते हुए देखा जा सकता है। इसके अलावा वह सुपर मॉडल से अभिनेत्री बनी लेटिटा कास्टा के साथ भी तस्वीरों में देखी जा सकती है। फ्रांसीसी अखबार ले फिगारो के अनुसार, जर्मन कानून के तहत चौपेट अपने मालिक कार्ल लजेरफेल्ड के करोड़ों पाउंड वसीयत की हकदार हो सकती है।

कार्ल की मौत के बाद उनकी बिल्ली 150 मिलियन पाउंड (लगभग 1395 करोड़ रुपये) की मालकिन बन गई है। कार्ल की ये बिल्ली पहले से ही फैशन जगत की सबसे नामी बिल्ली थी। अपने हठी मिजाज और विवादित बयानों को लेकर सुर्खियों में रहने वाले कार्ल को अपनी बिल्ली से इतना प्रेम था कि उन्होंने एक बार उससे शादी करने की इच्छा भी व्यक्त की थी। उनकी ये बिल्ली सोशल मीडिया प्लेटफार्म पर स्टेटस अपडेट करती है। ट्विटर पर उसके 27000, फेसबुक पर 1276 और इंस्टाग्राम पर 120000 फॉलोअर्स हैं।

इतना ही नहीं कार्ल ने अपनी बिल्ली के लिए अलग से लंबा-चौड़ा स्टाफ रखा हुआ था। ये स्टाफ न केवल बिल्ली के हर आदेश का पालन करता है, बल्कि उसकी पसंद और नापसंद का भी पूरा ख्याल रखता है। कार्ल कई मौकों पर अपनी बिल्ली को मॉडल की तरह पेश कर चुके थे। वह अक्सर अपनी बिल्ली को मॉडल की तरह सजाकर रखते थे। फोटो के जरिए आप दुनिया की इस सबसे अमीर बिल्ली के नाजो-नखरे देख सकते हैं।

राजकुमारी से कम नहीं हैं ठाठ
कार्ल की इस बिल्ली के ठाठ किसी राजकुमारी से कम नहीं हैं। ये बिल्ली अपनी खुद की टेबल पर डिनर करती है। उसके पास अपना अलग आईपैड है, जिससे उसकी तस्वीरें खींची जाती हैं। कार्ल अपनी बिल्ली के इस कदर दिवाने थे कि उन्होंने उसकी आंखों से प्रेरित होकर अपने एक कलेक्शन के डिजाइन तैयार किये थे। कार्ल जब घर से बाहर अपनी बिल्ली से दूर होते थे, तो दौ नौकरानियां बिल्ली की हर गतिविधि को डायरी में नोट करती थी। कार्ल वापस आकर उस डायरी को पढ़ते थे।

कई सुपर मॉडल संग खिचाई है फोटो
उसके नाम से एक किताब भी है, जिसका नाम है ‘चौपेटः द प्राइवेट लाइफ ऑफ ए हाई-फ्लाइंग फैशन कैट’। इस किताब में शामिल एक फोटो में चौपेट को सुपर मॉडल लिंडा इवांगालिस्ता की बाहों में फोटो खिंचाते हुए देखा जा सकता है। इसके अलावा वह सुपर मॉडल से अभिनेत्री बनी लेटिटा कास्टा के साथ भी तस्वीरों में देखी जा सकती है। फ्रांसीसी अखबार ले फिगारो के अनुसार, जर्मन कानून के तहत चौपेट अपने मालिक कार्ल लजेरफेल्ड के करोड़ों पाउंड वसीयत की हकदार हो सकती है।

अब कौन करेगा बिल्ली की देखभाल
हालांकि, अभी ये स्पष्ट नहीं है कि कार्ल की मौत के बाद उनकी बिल्ली चौपेट की देखभाल कौन करेगा। माना जा रहा है कि कार्ल के पुरुष मॉडल ब्रैड क्रोनिग और उनका बेटा हडसन चौपेट की देखभाल का जिम्मा ले सकते हैं। मालूम हो कि अपने पूर्व के कुछ साक्षात्कारों में भी कार्ल ने अपनी बिल्ली चौपेट को उनका उत्तराधिकारी बताया था। साथ ही उन्होंने ये भी कहा था कि उनके करीबियों को इससे घबराने की जरूरत नहीं है, क्योंकि वह सबके लिए बहुत कुछ छोड़कर जाएंगे।

शनेल के क्रिएटिव डायरेक्टर थे कार्ल
कार्ल लजेरफेल्ड, अंतरराष्ट्रीय ब्रांड शनेल के क्रिएटिव डायरेक्टर थे। उन्हें शनेल से जुड़े हुए 30 साल से भी ज्यादा हो गए थे। लजेरफेल्ड को उनके अनोखे स्टाइल के लिए जाना जाता था। वह हमेशा काला सूट और काला चश्मा पहनते थे। रात के वक्त वह लंबी सफेद शर्ट पहनते थे। हाल में हुए शनेल के एक फैलन शो में कार्ल के नजर न आने पर, कंपनी के अधिकारियों ने बताया था कि थकावट की वजह से वह शो का हिस्सा बनने में असमर्थ हैं।

कार्ल ने मॉडलों पर की थी ये विवादित टिप्पणी
कार्ल फैशन के ट्रेंड के साथ अपनी मॉडल्स को भी बदलते रहते थे। कार्ल सुंदरता को लेकर कहते थे ‘आज जिसे सुंदर माना जा रहा है, कल उसे सफाई करने वाली का काम भी नहीं मिलेगा।’ अपनी इस सोच को चरितार्थ करते हुए कार्ल वक्त-वक्त पर अपनी मॉडल्स को बदलते रहते थे। इसके अलावा कार्ल ने एक बार बयान दिया था कि जिन्हें पैंट उतारने में संकोच हो, वह मॉडलिंग न करें। उनके इस बयान पर काफी बवंडर भी मचा था।

सनकीपन पर था गर्व
कार्ल अपने बालों को झक सफेद दिखाने के लिए उस पर पाउडर लगाते थे। वह रॉल्स रॉयस गाड़ी से चलते थे। उनके हाथों में हमेशा काले रंग का चमड़े का दस्ताना नजर आता था। कार्ल की जीवनशैली काफी अलग या कहें अजीब थी और वह खुद अपनी जीवनशैली के बारे में कहते थे, ‘मैं जमीन से जुड़ा हूं, बस इस धरती से नहीं’।

कार्ल ने मॉडलों पर की थी ये विवादित टिप्पणी
कार्ल फैशन के ट्रेंड के साथ अपनी मॉडल्स को भी बदलते रहते थे। कार्ल सुंदरता को लेकर कहते थे ‘आज जिसे सुंदर माना जा रहा है, कल उसे सफाई करने वाली का काम भी नहीं मिलेगा।’ अपनी इस सोच को चरितार्थ करते हुए कार्ल वक्त-वक्त पर अपनी मॉडल्स को बदलते रहते थे। इसके अलावा कार्ल ने एक बार बयान दिया था कि जिन्हें पैंट उतारने में संकोच हो, वह मॉडलिंग न करें। उनके इस बयान पर काफी बवंडर भी मचा था।

सनकीपन पर था गर्व
कार्ल अपने बालों को झक सफेद दिखाने के लिए उस पर पाउडर लगाते थे। वह रॉल्स रॉयस गाड़ी से चलते थे। उनके हाथों में हमेशा काले रंग का चमड़े का दस्ताना नजर आता था। कार्ल की जीवनशैली काफी अलग या कहें अजीब थी और वह खुद अपनी जीवनशैली के बारे में कहते थे, ‘मैं जमीन से जुड़ा हूं, बस इस धरती से नहीं’।

मरते दम तक काम किया
कार्ल अपने काम के प्रति इस कदर जुनूनी थे कि मरते दम तक उन्होंने काम किया। वह कहा करते थे कि दिन 48 घंटे के होने चाहिए, क्योंकि 24 घंटे उनके लिए कम पड़ जाते हैं। 80 साल के होने के बाद भी वह हमेशा व्यस्त रहते थे। कार्ल कहते थे ‘मैं स्ट्रेस नहीं जानता केवल स्ट्रास जानता हूं’। जर्मन भाषा में स्ट्रास शब्द का मतलब होता है राइनस्टोन या चमकने वाला स्फटिक पत्थर।

बिल्ली के लिए आधी रात में बुलाया डॉक्टर
कार्ल ने वर्ष 2012 में चौपेट को गोद लिया था। वह अपनी बिल्ली से इस कदर प्यार करते थे कि एक बार उसके बीमार पड़ने पर आधी रात को डॉक्टर बुलवा लिया था। उन्होंने कहा था कि वह सुबह होने का इंतजार नहीं कर सकते थे। चौपेट दिन में दो बार ब्रश करती है। वक्त-वक्त पर उसे मैनक्युर कराया जाता है। अपने निजी बगीचे में कीड़े-मकोड़ों का पीछा करना और कागज फाड़ना चौपेट को सबसे ज्यादा पसंद है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here