Mission 2019: नवीन की न से धर्मनगरी के सियासी योद्धाओं में धर्मपाल का नाम भी शामिल

0
5

पानीपत। कुरुक्षेत्र यानी महाभारत की धरा में सियासी योद्धा उतारना कांग्रेस के लिए कड़ी चुनौती साबित होता जा रहा है। नामांकन शुरू होने के बावजूद अभी तक प्रत्याशी तय नहीं हो सका है। धर्मनगरी कुरुक्षेत्र लोकसभा सीट से नवीन जिंदल के न करने के बाद कांग्रेस से वैश्य बिरादरी के धर्मपाल गुप्ता का नाम टिकट के दावेदारों में उछला है। सोशल मीडिया पर भी इसकी चर्चा रही। पार्टी लीडरों ने उन्हें शुभकामनाएं भी दी हैं। हुड्डा गुट के समर्थक धर्मपाल गुप्ता ने इस पर कोई टिप्पणी नहीं की है। कांग्रेस के पास वैश्य बिरादरी का कोई विधायक नहीं है।

कांग्रेस हाईकमान टिकट के बंटवारे में उलझी हुई है। हरियाणा की छह सीटों पर उम्मीदवार उतारने के बाद बची हुई चार सीटों पर उम्मीदवारों के नामों के बारे में कयास लगाए जा रहे थे। सोमवार को अचानक नवीन जिंदल के चुनाव लडऩे से इंकार करने के बाद कांग्रेस के समक्ष एक बड़ी चुनौती आ गई। जातीय समीकरण को सुलझाने के लिए कांग्रेस चार में से एक सीट ब्राह्मण और एक सीट वैश्य बिरादरी को देना चाहती है।

पूर्व सीएम के प्रत्याशियों को तव्वजो
पार्टी सूत्रों के मुताबिक टिकट बंटवारे में पूर्व मुख्यमंत्री भूपेंद्र सिंह हुड्डा की तरफ से प्रस्तावित नामों को हाइकमान तवज्जो देती है। हरियाणा की राजनीति में रुचि रखने वाले धर्मपाल गुप्ता वैश्य बिरादरी से होने से इस सांचे में फिट बैठते हैं। करनाल और कुरुक्षेत्र दोनों जगह से उनके नाम की चर्चा है। इसी बिरादरी के सुरेश गुप्ता भी करनाल सीट से संभावित उम्मीदवारों की रेस में शामिल हैं। बताया जा रहा है कि वे कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी के करीबी हैं।

भाजपा के 7 विधायक वैश्य समाज से 
हरियाणा में भाजपा से सात विधायक वैश्य समाज से हैं। दो विधायक को कैबिनेट मंत्री का दर्जा प्राप्त है। दो राज्यमंत्री भी हैं।

सोशल मीडिया पर बधाई संदेश 
कांग्रेस पार्टी में शहरी क्षेत्र से शशि लूथरा कांग्रेस की वरिष्ठ नेता हैं। पार्टी ने उन्हें पद भी दे रखा है। फेसबुक पर चर्चा में आने के बाद उन्होंने धर्मपाल गुप्ता को बधाई दी। एडवोकेट सुरेंद्र कादियान, एडवोकेट स्वामी पवन, मुकेश कक्कड़, भगत सूरा और डॉ. राजेंद्र बलाद ने भी शुभकमानाएं दी।

दोपहर बाद हो सकती है घोषणा 
दिल्ली में हरियाणा की इन चार सीटों पर अंतिम निर्णय लेने के लिए हाइकमान की बैठक मंगलवार को होनी है। पार्टी सूत्रों के मुताबिक दोपहर बाद उम्मीदवारों के नामों की घोषणा हो सकती है। वैश्य और ब्राह्मण बिरादरी को एक-एक सीट पर लड़ाने के लिए पार्टी तैयार है। इन दोनों बिरादरी को टिकट देकर कांग्रेस अपना वोट बैंक सुरक्षित रखना चाहती है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here