Mission 2019: चुनावों में सियासी दलों के पक्ष में एलान के लिए बदनाम शाही इमाम की घोषणा, ‘किसी पार्टी को समर्थन नहीं’

0
7

2019 लोकसभा चुनाव से पहले जामा मस्जिद के शाही इमाम मुस्लिम समुदाय को वोटरों से अपील करते थे कि वह किस पार्टी को वोट दें. उनके एलान को सियासी पार्टियां चुनावी मुद्दा भी बनाती थी.

नई दिल्लीः चुनाव से चंद महीने पहले सियासी कुश्ती खेलने में माहिर दिल्ली की जामा मस्जिद के शाही इमाम अहमद बुखारी ने इस बार किसी भी सियासी पार्टी के पक्ष में हिमायत का एलान नहीं किया है. उन्होंने कहा कि मुस्लिम समुदाय इस बार खुद तय करे कि वह किसे वोट देना चाहती है.

शाही इमाम ने कहा कि लोकतंत्र में कभी कभी ऐसे मौके आते हैं कि कोई फैसला करना मुश्किल हो जाता है कि कौन से सियासी पार्टी ठीक है और देश का विकास करेगी. ये बहुत नाजुक वक्त है लेकिन मुसलमानों को एक नई हुकूमत बनाने का फैसला करना है.

शाही इमाम अहमद बुखारी ने अपने बयान में कहा, ”लोकतंत्र में यह तय कर पाना काफी मुश्किल होता है कि कौन सी राजनीतिक पार्टी देश को विकास और एकजुटता के रास्ते पर ले जाएगी. ऐसी स्थिति में लोकतांत्रिक चुनावों के दौरान लोगों को, विशेषकर मुस्लिम समुदाय को इस बात का फैसला करना होगा कि एक नई सरकार चुनी जाए.”

उन्होंने कहा, ”बढ़ते धार्मिक उन्माद और कट्टरता हमारे देश के मूल सिद्धांतों के खिलाफ है. इन परिस्थितियों ने सभ्य समाज को गंभीर चिंता में डाल दिया है. हालात यह हो गए हैं कि देश के सुनहरे सिद्धांतों और अनेकता में एकता के बजाय, सांप्रदायिकता का जहर फैलाया जा रहा है.”

बुखारी ने कहा, ”वर्तमान चुनाव देश के राजनीतिक इतिहास में काफी महत्वपूर्ण है. देश की सामान्य संस्कृति और सभ्यता के अस्तित्व के लिए यह चुनाव दूरगामी परिणाम तय करेंगे.”

बता दें कि देश भर में सात चरणों में मतदान होंगे. पहले चरण का मतदान 11 अप्रैल को होगा जबकि 19 मई को सातवें और अंतिम चरण का मतदान होगा. वोटों की गिनती 23 मई को होगी.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here