35 C
Kanpur,in
Thursday, April 25, 2019

भागलपुर में वजूद की लड़ाई लड़ रहे NDA और महागठबंधन

0
4
भागलपुर। भागलपुर लोकसभा क्षेत्र में एनडीए और महाठबंधन के उम्मीदवारों के पास जाति का आधार वोट है। इस वोट को जो दल अपने खाते में कर लेगा, वह ‘मीर’ कहलाएगा। गंगोता वोट के अलावा दोनों के पास अलग-अलग धाराओं की जातिगत वोट भी है। किसी के पास यादव, मुस्लिम है तो किसी के पास वैश्य, सवर्ण, गोढ़ी और कुर्मी का समर्थन है। इन जातिगत वोटों पर कोई भी दल मजबूती से दावा नहीं कर सकता है। इस बार क्षेत्र का अपेक्षित विकास नहीं करने की एंटी इंकमबैंसी भी है तो दूसरी ओर अलोकप्रिय प्रत्याशी भी है। प्रत्याशी की छवि की तुलना में यहां दल या पार्टी हावी है। वोट का समीकरण लालू और मोदी की धुरी पर घूमता भी दिख रहा है। पेश है भागलपुर संसदीय क्षेत्र की राम प्रकाश गुप्ता की रिपोर्ट।
भागलपुर लोकसभा क्षेत्र का गठन छह विधानसभा क्षेत्रों को मिलाकर हुआ है। यहां की सभी छह विधानसभा गंगा या कोसी के किनारे है। देश में बहुत कम ही लोकसभा क्षेत्र होगा, जिसके सभी विधानसभा क्षेत्र का एक किनारा गंगा से सटा हुआ है। यही कारण है कि इस क्षेत्र में बाढ़ और कटाव की समस्या सालोंभर रहती है। हजारों की आबादी साल के तीन से चार महीने बाढ़ या कटाव से जूझती रहती है। इसके निदान के लिए सरकारी प्रयास फेल हैं। बाढ़ की तबाही से न केवल आम लोग प्रभावित होते हैं बल्कि फसल भी नष्ट हो जाती है। सड़कें कट जाती हैं। आवागमन पर भी इसका असर पड़ता है। नाथनगर विधानसभा में मसाढ़ू स्कूल चौक के पास पेशे से किसान मजदूर श्रीकांत मंडल, दुखन मंडल और मनोज मंडल एनएच-80 की दशा बताते हैं। कहते हैं कि यहां के नेता न तो जाम की समस्या दूर कर सके न ही सड़क को ठीक करवा सके। धूल से बीमारियां बढऩे लगी हैं। किसे शिकायत करें। वोट देने के नाम पर कहते है कि काम अच्छा होना चाहिए। विकास करने वाले को वोट मिलेगा।
कहलगांव विधानसभा क्षेत्र में घोघा के रहने वाले रणजीत मंडल और मंटू मंडल का कहना है कि अजय तो घर के प्रत्याशी हैं। उनके विषय में क्या कहना। तीन बार से विधानसभा चुनाव जीते हैं। काम किए हैं तभी तो मतदाताओं ने उन्हें पसंद किया है। पीरपैंती विधानसभा के सलेमपुर सैनी पंचायत के इंदिरा आवास कॉलोनी के समीप गेहूं की तैयारी करा रहे मो. मीर कईम, रविंद्र कुमार मंडल, किसान कामदेव का कहना है कि आम, मिर्च, सब्जी की उपज का लागत मूल्य भी नहीं मिलता है। औने-पौने दाम में बेचना पड़ता है। उनकी समस्या को कोई सुनने वाला नहीं है। विकास सिर्फ क्षेत्र का नहीं किसान और मजदूरों का भी होना चाहिए। हरचनपुर के किसान सुबोध बताते हैं कि कहलगांव से बाराहाट तक की सड़क अभी तक नहीं बनी है। कैसे कहें कि विकास हुआ है। ईशीपुर बाराहाट के व्यापारी सुरेश साहा और अशोक कुमार की नजर में देशहित इस बार का चुनावी मुद्दा है। एनडीए से ही विकास की उïम्मीद है। शेरमारी के पास एनएच पर स्थित एक होटल में पंचायत समिति सदस्य पंकज कुमार, प्रमोद झा और लक्ष्मी कहती हैं कि विकास की गति बहुत धीमी है। पीरपैंती में कटाव की रोकथाम पर सरकार के पास मजबूत इच्छाशक्ति का अभाव है। बिहपुर विधानसभा के राघोपुर बिहुला टोला और शंकरपुर में गोपाल मंडल, गणेशी मंडल ने कहा कि हमलोगों को सुख दुख का साथी चाहिए। निश्चित रुप से उनका भरोसा राजद प्रत्याशी के साथ है, जो इसी गांव के रहने वाले हैं। बिहपुर विधानसभा में बुलो के योगदान की नंदकिशोर मंडल ने प्रशंसा की। इसके विपरीत बभनगामा में शंकर चौधरी और दशरथ प्रसाद यादव कहते हैं कि इस बार देशहित के मुद्दे पर वोट पड़ेगा। गोपालपुर विधानसभा में अनुज मंडल और राजेंद्र प्रसाद कहते हैं कि अभी तक कोई प्रत्याशी वोट मांगने तक नहीं आया है। समय आने पर निर्णय करेंगे।
वोटों की गोलबंदी के लिए पीएम, सीएम सहित कई ने की सभाएं 
एनडीए से जदयू प्रत्याशी अजय कुमार मंडल और महागठबंधन से राजद के शैलेश कुमार उर्फ बुलो मंडल के पक्ष में अब तक दर्जन भर से अधिक सभाएं हो चुकी हैं। पीएम नरेंद्र मोदी ने हवाई अड्डे में विजय संकल्प रैली किया। सीएम नीतीश कुमार, पूर्व केंद्रीय मंत्री उपेंद्र कुशवाहा और राजद के तेजस्वी यादव ने भी जिले में कई सभाएं की हैं। उप मुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी ने अजय के पक्ष में रोड शो भी किया। अब वोटों को बिखरने से रोकने के लिए भाजपा और कांग्रेस को मजबूती से साथ देना होगा।
भागलपुर लोकसभा क्षेत्र, एक नजर
कुल प्रत्याशी -नौ
विधानसभा क्षेत्र- भागलपुर, नाथनगर, कहलगांव, पीरपैंती, गोपालपुर और बिहपुर।
कुल मतदाता-21, 40, 863
2014 का परिणाम
राजद के बुलो मंडल-3,67,623
भाजपा के शाहनवाज हुसैन-3,58,138
जदयू के अबू कैसर-1,32,256

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here