दिसंबर 2018 में सुप्रीम कोर्ट से सेवानिवृत्त हुए जस्टिस लोकुर को फिजी के सुप्रीम कोर्ट में अप्रवासी समिति के न्यायाधीश के तौर पर नियुक्त किया गया है.

नई दिल्ली: सुप्रीम कोर्ट के रिटायर्ड जस्टिस मदन बी. लोकुर को फिजी के उच्चतम न्यायालय की अप्रवासी समिति के न्यायाधीश के तौर पर नियुक्त किया गया है.

सूत्रों ने बताया कि जस्टिस लोकुर को इस नयी भूमिका में तीन साल की अवधि के लिए नियुक्त किया गया है. वह 31 दिसंबर 2018 को उच्चतम न्यायालय के न्यायाधीश के पद से सेवानिवृत्त हुए थे.

पूर्व न्यायाधीश के करीबी सूत्रों ने कहा कि उन्हें सेवानिवृत्ति वाले दिन ही फिजी के उच्चतम न्यायालय के प्रधान न्यायाधीश की तरफ से प्रस्ताव मिला था. उन्होंने बताया कि वह इस साल 15 अगस्त को यह पद भार ग्रहण करेंगे.

बता दें कि बीते साल सुप्रीम कोर्ट के वरिष्ठतम जजों द्वारा हुई प्रेस कॉन्फ्रेंस में शामिल होने वाले जजों में जस्टिस लोकुर एक थे.

उनकी सेवानिवृत्ति के बाद एक कार्यक्रम में इस प्रेस कॉन्फ्रेंस के हासिल के बारे में सवाल करने पर उन्होंने कहा था कि इससे सुप्रीम कोर्ट की मौजूदा प्रणाली में कुछ पारदर्शिता आई है.

इसी समय जब उनसे सेवानिवृत्त हुए जजों द्वारा सेवानिवृत्ति के बाद पद स्वीकारने के बारे में पूछा गया था, जिस पर जवाब देते हुए जस्टिस लोकुर ने कहा कि कई कानूनों के तहत न्यायाधिकरणों और संवैधानिक संस्थाओं की अध्यक्षता करने के लिए सेवानिवृत्त जजों की आवश्यकता होती है.

उन्होंने कहा था कि सभी जजों द्वारा सेवानिवृत्ति के बाद वाली नियुक्तियों को ठुकराने से ऐसी व्यवस्थाएं ठप्प पड़ जाएंगी. अन्यथा कानूनों में बदलाव करने पड़ेंगे. हालांकि इस पर चिंता जताते हुए उन्होंने कहा कि सेवानिवृत्ति के बाद जजों की नियुक्तियों को लेकर एक सीमा तय होनी चाहिए.

(समाचार एजेंसी भाषा से इनपुट के साथ)

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here