#UK: पूर्व CM एनडी तिवारी के बेटे रोहित की मौत में नया मोड़, मानसिक यातना दी गई-मां

0
21

रोहित की मां उज्ज्वला ने पत्रकारों से कहा कि बेटे रोहित की मौत तो नेचुरल हुई है, लेकिन बेटे को मानसिक यंत्रणा दी गई. उज्ज्वला ने कहा कि जिन्होंने बेटे को अवसाद में डाला, वे उनका नाम जरूर बताएंगी, लेकिन बाद में .

उत्तराखंड के पूर्व मुख्यमंत्री एनडी तिवारी के बेटे रोहित शेखर की संदिग्ध मौत में नया मोड़ आ गया है. रोहित की मां उज्ज्वला ने पत्रकारों से कहा कि बेटे रोहित की मौत तो नेचुरल हुई है, लेकिन बेटे को मानसिक यंत्रणा दी गई.

उज्ज्वला ने कहा कि जिन्होंने बेटे को अवसाद में डाला, वे उनका नाम जरूर बताएंगी, लेकिन बाद में. उन्होंने कहा कि मन में बहुत सी बातें हैं, लेकिन ये बात करने का उचित समय नहीं है. बहुत सी बातें करनी हैं.

रोहित शेखर की क्या सामान्य मौत हुई? इस सवाल पर उन्होंने कहा कि मृत्यु में कुछ भी असामान्य नहीं है, लेकिन मौत किन अवसादों में हुई, और उसके पीछे कौन लोग हैं, ये मैं जरूर बताऊंगी. उज्ज्वला ने साफ किया कि रोहित को न्यूरो से संबंधित कोई भी समस्या नहीं थी.

रोहित शेखर तिवारी का मंगलवार को निधन हो गया था. साउथ दिल्ली की डिफेंस कॉलोनी में रोहित पत्नी और मां के साथ रहते थे. उन्हें साकेत मैक्स अस्पताल ले जाया गया, जहां डॉक्टरों ने उन्हें मृत घोषित कर दिया.

पुलिस उपायुक्त (साउथ) विजय कुमार ने बताया कि रोहित को शाम करीब पांच बजे अस्पताल लाया गया, जहां डॉक्टरों ने उन्हें मृत घोषित कर दिया. उन्होंने बताया कि उनकी मां उज्ज्वला भी इसी अस्पताल में भर्ती थीं. उन्हें उनके बेटे के अस्वस्थ होने और नाक से खून बहने की खबर घर से मिली थी.

ज्वाइंट कमिश्नर देवेश श्रीवास्तव के मुताबिक, शेखर के नाक से खून निकल रहा था. घर पर मौजूद नौकरों ने शेखर की मां को फोन किया जो उस वक्त अस्पताल में चेक अप करवाने गई थीं. शेखर की मां उज्ज्वला अस्पताल से डिफेंस कालोनी घर पहुंचीं और फिर एम्बुलेंस से शेखर को मैक्स अस्पताल ले जाया गया. जहां डाक्टरों ने शेखर को मृत घोषित कर दिया, मौत की वजह अभी क्लियर नहीं है.

अस्पताल ने बयान में कहा कि मैक्स अस्पताल को चार बजकर 41 मिनट पर रोहित शेखर तिवारी के घर से एक कॉल आई. एक एंबुलेंस तिवारी को लेकर साकेत के मैक्स अस्पताल पहुंचा, जहां उन्हें इमरजेंसी वार्ड में मृत घोषित कर दिया गया.

40 वर्षीय रोहित शेखर ने एनडी तिवारी के बेटे का हक 6 साल लंबी कानूनी लड़ाई लड़ने के बाद हासिल किया था. रोहित ने दावा किया था कि नारायण दत्त तिवारी उसके जैविक पिता हैं. डीएनए टेस्ट के बाद साफ हुआ था कि रोहित के जैविक पिता एनडी तिवारी ही हैं. रोहित इस समय डिफेंस कॉलोनी में अपनी पत्नी और मां उज्ज्वला के साथ रहते थे. पिछले साल ही उन्होंने अपूर्वा से शादी की थी.

एनडी तिवारी का पिछले साल ही जन्मदिन पर 18 अक्टूबर को 93 साल की उम्र में निधन हो गया था. उनका भी साकेत के इसी अस्पताल में इलाज चल रहा था. रोहित 2017 के उत्तराखंड विधानसभा चुनाव से पहले भाजपा में शामिल हो गये थे.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here