राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार डोभाल ने दी PAK को चेतावनी, पुलवामा हमले को भारत भूलेगा नहीं

0
19

राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल ने पाकिस्तान को चेतावनी दी है. CRPF के स्थापना दिवस पर बोलते हुए डोभाल ने कहा कि देश को मालूम है कि कब, क्या, कहा करना है. डोभाल ने कहा कि हमने पुलवामा हमले का बदला लिया. हम पुलवामा हमले को नहीं भूलेंगे.

राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल ने पाकिस्तान को चेतावनी दी है. CRPF के स्थापना दिवस पर बोलते हुए डोभाल ने कहा कि देश को मालूम है कि कब, क्या, कहा करना है. डोभाल ने कहा कि हमने पुलवामा हमले का बदला लिया. हम पुलवामा हमले को नहीं भूलेंगे.

सीआरपीएफ की 80वीं वार्षिक परेड को संबोधित करते हुए राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजित डोभाल ने पुलवामा हमले का जिक्र करते हुए कहा कि मैं उन 40 जवानों को श्रद्धांजलि देता हूं. राष्ट्र इसको भूला नहीं है. अजित डोभाल ने कहा कि इस समस्या का निस्तारण करने के लिए समय क्या होगा, जगह कहां होगी, ये तय करने के लिए हमारा नेतृत्व सक्षम है. हम आतंकवाद का मुकाबला करेंगे.

डोभाल ने कहा कि कितने गर्व की बात है इस फोर्स ने अस्सी साल पूरे कर लिए. उन्होंने कहा कि देश की एक मात्र फोर्स ऐसी है जो देश के 32 लाख वर्ग किलोमीटर की रक्षा करती है. देश का कोई भी हिस्सा ऐसा नहीं है, जहां ये फोर्स मौजूद नहीं है. हम सबको सीआरपीएफ पर गर्व है.

सीआरपीएफ के लिए उन्होंने कहा कि अगर आपका मनोबल बढ़ता है तो देश का मनोबल बढ़ता है. पार्टीशन के वक्त जब पलायन हो रहा था तो हालात नियंत्रित करने में सीआरपीएफ ने अहम भूमिका निभाई. डोभाल ने कहा कि मैं भी 37 साल भारतीय पुलिस सेवा में था, लेकिन आपके बल की कुछ विशेषताएं हैं. किसी भी समस्या में भारत को जब आंतरिक सुरक्षा की समस्या का सामना करना पड़ा तो सीआरपीएफ सामने आया. सीआरपीएफ की जो क्रेडिबिलिटी है वो योग्यता, बहादुरी, देश-प्रेम में आती है. इसको बरकरार रखना उससे भी बड़ी बात है.

डोभाल ने कहा कि द्वितीय विश्व युद्ध के बाद 37 ऐसे देश थे जो टूटे. उनमें से 28 ऐसे देश थे जो आंतरिक सुरक्षा फेल होने की वजह से टूटे. उन्होंने कहा कि सीआरपीएफ को प्रोफेशनलिज्म रखना होगा. गौरतलब है कि पुलवामा में 14 फरवरी को जैश-ए-मोहम्मद ने सीआरपीएफ के वाहन पर हमला किया था. जैश के आत्मघाती हमलावर ने विस्फोटक से भरी गाड़ी सीआरपीएफ की बस में भिड़ा दिया था. इस दौरान इतनी तेज धमाका हुआ कि बस में सवार सभी 40 जवान शहीद हो गए. बाद में भारत ने पाकिस्तान में घुसकर इस हमले का बदला लिया था. 26 फरवरी को भारतीय वायुसेना के विमानों ने पाकिस्तान के बालाकोट में मौजूद आतंकी ठिकानों को पूरी तरह से बर्बाद कर दिया.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here