वेनेजुएला: गहराता जा रहा राजनीतिक संकट, सड़कों पर उतरे हजारों लोग

0
6

काराकास/बीजिंग। वेनेजुएला में जारी राजनीति संकट के बीच खुद को राष्ट्रपति घोषित करने वाले विपक्षी नेता जुआन गुएडो ने चीन के समक्ष दोस्ती का हाथ बढ़ाया है। चीनी अखबार साउड चाइना मॉर्निंग पोस्ट ने शनिवार को अपनी रिपोर्ट में इस बात का जिक्र किया है कि जुआन गुएडो राष्ट्रपति जिनपिंग के साथ वार्ता करना चाहते हैं। अखबार के मुताबिक, जुआन गुएडो ने कहा कि वह चीन के साथ द्विपक्षीय समझौतों का सम्मान करेंगे और वह जल्द से जल्द बीजिंग के वार्ता करना चाहते हैं।

मादुरो के खिलाफ प्रदर्शन
उधर, खुद को राष्ट्रपति घोषित करने वाले विपक्षी नेता जुआन गुएडो के समर्थन में लोग सड़कों पर आ गए हैं। करीब दस हजार लोगों ने शनिवार को प्रदर्शन किया। प्रदर्शन कर रहे लोगों ने दोबारा से चुनाव कराने की मांग की और कहा कि अंतरराष्ट्रीय समुदाय निकोलस मादुरो पर पद छोड़ने के लिए दवाब बनाए। अमेरिका के उपराष्ट्रपति माइक पेंस ने प्रदर्शनकारियों का समर्थन करते हुए कहा कि वे जल्द से जल्द मादुरो का अत्याचार खत्म करने की दिशा में काम करें।

निकोलस मादुरो को रविवार तक का समय
प्रमुख यूरोपीय देशों ने निकोलस मादुरो को रविवार तक का समय दिया है ताकि वह अपना पद छोड़कर दोबारा से चुनाव करा सकें। इन देशों ने चेतावनी दी है कि अगर ऐसा निकोलस मादुरो ने ऐसा नहीं किया तो वे विपक्षी नेता जुआन गुएडो को अंतरिम राष्ट्रपति का दर्जा देंगे और संयुक्त राष्ट्र से भी ऐसा करने की अपील करेंगे। जर्मनी ब्रिटेन, फ्रांस और स्पेन ने कहा है कि अगर मादुरो रविवार मध्य रात्रि तक राष्ट्रपति चुनाव की घोषणा नहीं करेंगे तो उनको हटाने के लिए वाशिंगटन में अमेरिका और गुएडो के साथ एक वार्ता की जाएगी।

अमेरिका ने किया प्रदर्शनकारियों का समर्थन
अमेरिका ने भी मादुरो को हटाने की मांग कर रहे प्रदर्शनकारियों का समर्थन किया है। राष्ट्रपति ट्रंप ने ट्वीट कर कहा है कि प्रदर्शनकारी आजादी के लिए लड़ रहे हैं। उन्होंने एक बार फिर विपक्ष के नेता और स्वघोषित राष्ट्रपति जुआन गुएडो के प्रति अमेरिकी समर्थन दोहराया है। उधर, मादुरो ने अमेरिका चेताते हुए कहा है कि उनके देश पर किसी भी तरह के अमेरिकी हमले का परिणाम वियतनाम युद्ध से भी भयावह होगा। उन्होंने कहा कि अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप उनके देश को एक और वियतनाम युद्ध की ओर धकेल रहे हैं।

क्या है पूरा विवाद?
दरअसल, 23 जनवरी को विपक्षी नेता जुआन गुएडो ने मादुरो को सीधी चुनौती देते हुए खुद को अंतरिम राष्ट्रपति घोषित कर लिया था।  गुएडो ने कहा था कि वह संविधान के मुताबिक ही काम कर रहे हैं। देश के संविधान के दो अनुच्छेद के तहत नेशनल असेंबली के नेता को यह अधिकार दिया गया है कि वह अस्थायी रूप से सत्ता अपने हाथ में लेकर चुनाव की घोषणा कर सकता है। गुएडो को अमेरिका समेत लैटिन अमेरिकी देशों ने भी राष्ट्रपति के तौर पर मान्यता भी दे दी। यूरोपीय देश भी गुएडो के समर्थन में उतर गए हैं। जबकि रूस और चीन ने मौजूदा राष्ट्रपति निकोलस मादुरो का समर्थन किया है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here