राहुल गांधी ने किया पापनाशिनी नदी के पास अनुष्ठान, मलयाली मुंडू पहने दिखे

0
6

इसी नदी में राहुल गांधी के पिता और भारत के पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी की अस्थियां विसर्जित की गई थीं. राजीव गांधी की 21 मई, 1991 को तमिलनाडु के श्रीपेंबुदूर में बम ब्लास्ट में हत्या हो गई थी.

केरल:  राहुल गांधी केरल दौरे के दौरान वायनाड पहुंचे. जहां से वे इस बार चुनाव लड़ रहे हैं. अमेठी के अलावा दक्षिण की वायनाड से भी नामांकन भरा है. ‘दक्षिण का काशी’ माने जाने वाले तिरुनेल्ली मंदिर में पूजा-अर्चना की और मंदिर के पास बहने वाली पापनाशिनी नदी के पास अनुष्ठान किए. इस जगह से राहुल गांधी का एक पुराना कनेक्शन है.

दरअसल, इसी नदी में उनके पिता और भारत के पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी की अस्थियां विसर्जित की गई थीं. राहुल गांधी मलयाली वेश-भूषा ‘मुंडू’ में नजर आए. राजीव गांधी की 21 मई, 1991 को तमिलनाडु के श्रीपेंबुदूर में बम ब्लास्ट में हत्या हो गई थी. इसके बाद उनकी अस्थियां पापनाशिनी नदी में विसर्जित की गई थीं.

तिरुनेल्ली मंदिर को ‘दक्षिण का काशी’ कहा जाता है और यह केरल के कुछ प्राचीनतम मंदिरों में से एक है. यहां लोगों की आस्था है कि ब्रह्मा ने भगवान विष्णु की प्रतिष्ठा की थी. माना जाता है कि पापनाशिनी नदी में अस्थियां विसर्जित करना बिहार के गया में विसर्जन के बराबर है. नदी के पास एक पत्थर है, जिसे पिन्नाप्परा कहा जाता है, जहां मृत लोगों से जुड़े अनुष्ठान किए जाते हैं.

वायनाड कांग्रेस कार्यकर्ताओं से मिली जानकारी के मुताबिक कांग्रेस अध्यक्ष ने अपने पिता राजीव गांधी, अपनी दादी इंदिरा गांधी, पूर्वजों और पुलवामा के शहीदों के लिए अनुष्ठान किया. पहले भी राहुल गांधी ने यहां आने की इच्छा व्यक्त की थी लेकिन सुरक्षा कारणों से ऐसा नहीं हो सका. उन्होंने पुजारी के निर्देश के अनुसार पूजा की.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here