सार्वजनिक संपत्ति को नुकसान पहुंचाने वालों को ‘यूपी की तरह’ मारेंगे गोली-पश्चिम बंगाल के भाजपा अध्यक्ष दिलीप घोष

0
16

पश्चिम बंगाल के भाजपा अध्यक्ष दिलीप घोष ने सार्वजनिक संपत्ति को नुकसान पहुंचाने वालों को “उत्तर प्रदेश की तरह” गोली मारने की बात कही है। सीएए और एनआरसी को लेकर चल रहे प्रदर्शन के बीच घोष के इस बयान से अब एक और विवाद खड़ा हो गया है।

पश्चिम बंगाल के नाडिया जिले में एक जनसभा को संबोधित करते हुए दिलीप घोष ने कहा कि आगजनी करने और सार्वजनिक संपत्ति को नुकसान पहुंचाने वालों को “उत्तर प्रदेश के जैसे गोली मार दी जाएगी।”

दरअसल, घोष यहां उन उपद्रवियों के बारे में बात कर रहे थे जिन्होंने बंगाल में नागरिकता कानून (सीएए) के खिलाफ विरोध प्रदर्शनों के दौरान रेलवे और सार्वजनिक संपत्ति को क्षतिग्रस्त किया था। मुख्यमंत्री ममता बनर्जी पर हमला बोलते हुए उन्होंने कहा कि पिछले साल राज्य में नागरिकता कानून के खिलाफ हुए प्रदर्शनों में सार्वजनिक संपत्ति को काफी नुकसान पहुंचाया गया। राज्य सरकार ने प्रदर्शनकारियों पर न ही लाठीचार्ज और न ही गोली चलाने के आदेश दिए क्योंकि वह लोग ममता बनर्जी के मतदाता हैं। उन्होंने कहा, ‘क्या ये उनके पिता की संपत्ति है। वो लोग (प्रदर्शनकारी) टैक्स देने वालों के पैसों से बनी सार्वजनिक संपत्ति को नुकसान कैसे पहुंचा सकते हैं।

यूपी-असम-कर्नाटक सरकार ने गोली चलाकर सही किया

उन्होंने कहा, “उत्तर प्रदेश, असम और कर्नाटक की सरकारों ने इन राष्ट्रविरोधी तत्वों (एंटी-सीएए विरोध के दौरान) पर गोली चलाकर सही काम किया।” उन्होंने सवालिया लहजे में कहा, “वे यहां आएंगे, सभी सुविधाओं का आनंद लेंगे और देश की संपत्ति को नष्ट कर देंगे। क्या यह उनकी जमींदारी है!”

पश्चिम बंगाल में एक करोड़ “मुस्लिम घुसपैठिए”

घोष ने हिंदू बंगालियों के हितों को नुकसान पहुंचाने वालों की पहचान करने का भी आह्वान किया। उन्होंने दावा किया कि देश में दो करोड़ “मुस्लिम घुसपैठिए” हैं।  उन्होंने कहा कि एक करोड़ अकेले पश्चिम बंगाल में हैं और ममता बनर्जी उन्हें बचाने की कोशिश कर रही हैं।

सीएए को लेकर चल रहा है विरोध

मोदी सरकार ने शीतकालीन सत्र में नागरिकता संशोधन बिल को संसद में पेश किया था। दोनों सदनों से इसे पारित करवा लिया गया। राष्ट्रपति के हस्ताक्षर के बाद प्रस्तावित संशोधन कानून में जोड़ दिए गए। इसके तहत पाकिस्तान, अफगानिस्तान और बांग्लादेश के हिंदू, सिख, ईसाई, बौद्ध, जैन और पारसी नागरिकों को भारतीय नागरिकता देने में सहूलियत दी गई है। जबकि इसमें से मुस्लिमों को बाहर रखने के कारण देश में विरोध प्रदर्शन तेज है।

पश्चिम बंगाल के भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष और खड़गपुर के सांसद दिलीप घोष का कहना है कि राज्य में सार्वजनिक संपत्ति को नुकसान पहुंचाने वाले को गोली मार देंगे। वे नए संशोधित नागरिकता कानून के समर्थन में एक कार्यक्रम में भाग ले रहे थे। घोष अपनी बेबाक बयानबाजी के लिए जाने जाते हैं। लेकिन इस बार वह बेबाक और विवादास्पद के बीच के अंतर को शायद भूल गए।

जो नुकसान पहुंचाएगा, गोली खाएगा

घोष ने एक सार्वजनिक सभा में कहा, “उत्तर प्रदेश सरकार ने न सिर्फ ऐसे लोगों के खिलाफ कार्रवाई की बल्कि उन पर लाठी चार्ज किया और गोली मारी। हम भी इसी तरह गोली मारेंगे, लाठी चार्ज करेंगे और जो भी राज्य में संपत्ति का नुकसान पहुंचाएंगा उस पर कार्रवाई करेंगे।”

ममता वोट की खातिर रहती हैं चुप

उन्होंने पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी पर नागरिकता संशोधन अधिनियम के खिलाफ हिंसक विरोध प्रदर्शन के दौरान सार्वजनिक संपत्ति को नष्ट करने वालों के खिलाफ कार्रवाई नहीं करने का आरोप लगाया, क्योंकि वे “उनके मतदाता हैं।”

बेबाक नहीं विवादास्पद

घोष ने कहा, “वे लोग क्या सोचते हैं कि जिस सार्वजनिक संपत्ति को वे नष्ट कर रहे हैं वो उनके पिता की है? सार्वजनिक संपत्ति करदाताओं की है। आप (ममता) कुछ नहीं कहतीं क्योंकि वे आपके वोटर हैं। असम और उत्तर प्रदेश में, हमारी सरकार ने इन लोगों को गोली मारी है।”वह यही नहीं रुके। उन्होंने तंज करते हुए आगे कहा, “ममता बनर्जी संपत्ति को नुकसान पहुंचाने वालों के खिलाफ कुछ नहीं करना चाहतीं। यह क्या बात हुई कि आप यहां आएं, हमारा खाना खाएं, ठहरें और फिर सार्वजनिक संपत्ति को नुकसान पहुंचाएं। क्या यही आपकी जमींदारी है?”

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here